दुर्योधन कब मिट पाया

All Rights Reserved ©

Summary

जब सत्ता का नशा किसी व्यक्ति छा जाता है तब उसे ऐसा लगने लगता है कि वो सौरमंडल के सूर्य की तरह पूरे विश्व का केंद्र है और पूरी दुनिया उसी के चारो ओर ठीक वैसे हीं चक्कर लगा रही है जैसे कि सौर मंडल के ग्रह जैसे कि पृथ्वी, मांगल, शुक्र, शनि इत्यादि सूर्य का चक्कर लगाते हैं। न केवल वो अपने हर फैसले को सही मानता है अपितु उसे औरों पर थोपने की कोशिश भी करता है। नतीजा ये होता है कि उसे उचित और अनुचित का भान नही होता और अक्सर उससे अनुचित कर्म हीं प्रतिफलित होते हैं।कुछ इसी तरह की मनोवृत्ति का शिकार था दुर्योधन प्रस्तुत है महाभारत के इसी पात्र के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालती हुई कविता "दुर्योधन कब मिट पाया"।

Genre:
Poetry / Action
Author:
AJAY AMITABH
Status:
Ongoing
Chapters:
3
Rating:
n/a
Age Rating:
13+

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-1

रक्त से लथपथ शैल गात व शोणित सिंचित काया,
कुरुक्षेत्र की धरती पर लेटा एक नर मुरझाया।
तन पे चोट लगी थी उसकी जंघा टूट पड़ी थी त्यूं ,
जैसे मृदु माटी की मटकी हो कोई फूट पड़ी थी ज्यूं।

भाग्य सबल जब मानव का कैसे करतब दिखलाता है ,
किचित जब दुर्भाग्य प्रबल तब क्या नर को हो जाता है।
कौन जानता था जिसकी आज्ञा से शस्त्र उठाते थे ,
जब वो चाहे भीष्म द्रोण तरकस से वाण चलाते थे ।

सकल क्षेत्र ये भारत का जिसकी क़दमों में रहता था ,
भानुमति का मात्र सहारा सौ भ्राता संग फलता था ।
जरासंध सहचर जिसका औ कर्ण मित्र हितकारी था ,
शकुनि मामा कूटनीति का चतुर चपल खिलाड़ी था।

जो अंधे पिता धृतराष्ट्र का किंचित एक सहारा था,
माता के उर में बसता नयनों का एक सितारा था।
इधर उधर हो जाता था जिसके कहने सिंहासन ,
जिसकी आज्ञा से लड़ने को आतुर रहता था दु:शासन।

गज जब भी चलता है वन में शक्ति अक्षय लेकर के तन में,
तब जो पौधे पड़ते पग में धूल धूसरित होते क्षण में।
अहंकार की चर्बी जब आंखों पे फलित हो जाती है,
तब विवेक मर जाता है औ बुद्धि गलित हो जाती है।

क्या धर्म है क्या न्याय है सही गलत का ज्ञान नहीं,
जो चाहे वो करता था क्या नीतियुक्त था भान नहीं।
ताकत के मद में पागल था वो दुर्योधन मतवाला,
ज्ञात नहीं था दुर्योधन को वो पीता विष का प्याला।

Aj
Continue Reading Next Chapter
Further Recommendations

janelle: Wish the story wasn't so short can it be updated

nokugcina: I love the plot and cnt wait for the next update, I already recommended it to a friend hope she will download the app.

Fred Nixon: Lots of twists and turns and agonizing pain in this one. Not a story for weaklings …. but a great story!Thanks again for reminding me of long gone brothers.

Sue Watts: Loved loved this awesome book with all the people what shit they had to put up with loved Karlene and her bad boy neighbor thank you for the very happy ending

Savanna: I liked it all not a thing I didn't like same with all the other books I'm happy with her work

Jacinta: Sentima! I am bleary eyed, tired, I have read both stories, am dehydrated and hungry.You have had me hooked on your stories like an addict. The complication is actually brilliant.Your story line, time frames, plot, characters everything is A+.You are a master of your craft. So thank you for shari...

Connie White: 😊😊😊😊😊😊😊😊😊😊

Trinity Nottage: I loved the opposite attraction from the main characters.

By Teresa Knapp: There were a few places where you could have expanded on the story more, like HOW she got involved with Ty but other than that, you did very well and I enjoyed your story very much. Needs a bit of editing to correct some spelling and grammar errors.Looking forward to reading more of your work.

More Recommendations

suzipuzi: will you continue with the story. very good book

Helene 🦋: I enjoyed every bit of this series 😍❤️

britg92915: I’m excited to see if Tony will show he has a heart and let her go!

Elizabeth: I loved this short story. Amazing as always.

mils_28: Really enjoyed this book!!

About Us

Inkitt is the world’s first reader-powered publisher, providing a platform to discover hidden talents and turn them into globally successful authors. Write captivating stories, read enchanting novels, and we’ll publish the books our readers love most on our sister app, GALATEA and other formats.