मान गए भई पलटूराम

All Rights Reserved ©

Summary

इस सृष्टि में बदलाहटपन स्वाभाविक है। लेकिन इस बदलाहटपन में भी एक नियमितता है। एक नियत समय पर हीं दिन आता है, रात होती है। एक नियत समय पर हीं मौसम बदलते हैं। क्या हो अगर दिन रात में बदलने लगे? समुद्र सारे नियमों को ताक पर रखकर धरती पर उमड़ने को उतारू हो जाए? सीधी सी बात है , अनिश्चितता का माहौल बन जायेगा l भारतीय राजनीति में कुछ इसी तरह की अनिश्चितता का माहौल बनने लगा है। माना कि राजनीति में स्थाई मित्र और स्थाई शत्रु नहीं होते , परंतु इस अनिश्चितता के माहौल में कुछ तो निश्चितता हो। इस दल बदलू, सत्ता चिपकू और पलटूगिरी से जनता का भला कैसे हो सकता है? प्रस्तुत है मेरी व्ययंगात्मक कविता "मान गए भई पलटू राम"।

Genre:
Poetry
Author:
AJAY AMITABH
Status:
Complete
Chapters:
1
Rating:
n/a
Age Rating:
13+

मान गए भई पलटू राम

इस सृष्टि में बदलाहटपन स्वाभाविक है। लेकिन इस बदलाहटपन में भी एक नियमितता है। एक नियत समय पर हीं दिन आता है, रात होती है। एक नियत समय पर हीं मौसम बदलते हैं। क्या हो अगर दिन रात में बदलने लगे? समुद्र सारे नियमों को ताक पर रखकर धरती पर उमड़ने को उतारू हो जाए? सीधी सी बात है , अनिश्चितता का माहौल बन जायेगा l भारतीय राजनीति में कुछ इसी तरह की अनिश्चितता का माहौल बनने लगा है। माना कि राजनीति में स्थाई मित्र और स्थाई शत्रु नहीं होते , परंतु इस अनिश्चितता के माहौल में कुछ तो निश्चितता हो। इस दल बदलू, सत्ता चिपकू और पलटूगिरी से जनता का भला कैसे हो सकता है? प्रस्तुत है मेरी व्ययंगात्मक कविता "मान गए भई पलटू राम"।

======

तेरी पर चलती रहे दुकान,

मान गए भई पलटू राम।

======

कभी भतीजा अच्छा लगता,

कभी भतीजा कच्चा लगता,

वोहीं जाने क्या सच्चा लगता,

ताऊ का कब नया पैगाम ,

अदलू, बदलू, डबलू राम,

तेरी पर चलती रहे दुकान।

======

जहर उगलते अपने चाचा,

जहर निगलते अपने चाचा,

नीलकंठ बन छलते चाचा,

अजब गजब है तेरे काम ,

ताऊ चाचा रे तुझे प्रणाम,

तेरी पर चलती रहे दुकान।

======

केवल चाचा हीं ना कम है,

भतीजा भी एटम बम है,

कल गरम था आज नरम है,

ये भी कम ना सलटू राम,

भतीजे को भी हो सलाम,

तेरी पर चलती रहे दुकान।

======

मौसम बदले चाचा बदले,

भतीजे भी कम ना बदले,

पकड़े गर्दन गले भी पड़ले।

क्या बच्चा क्या चाचा जान,

ये भी वो भी पलटू राम,

इनकी चलती रहे दुकान।

======

कभी ईधर को प्यार जताए,

कभी उधर पर कुतर कर खाए,

कब किसपे ये दिल आ जाए,

कभी ईश्क कभी लड़े धड़ाम,

रिश्ते नाते सब कुर्बान,

तेरी पर चलती रहे दुकान।

======

थूक चाट के बात बना ले,

जो मित्र था घात लगा ले,

कुर्सी को हीं जात बना ले,

कुर्सी से हीं दुआ सलाम,

मान गए भई पलटू राम,

तेरी पर चलती रहे दुकान।

======

अहम गरम है भरम यही है,

ना आंखों में शरम कहीं है,

सबकुछ सत्ता धरम यही है,

क्या वादे कैसी है जुबान ,

कुर्सी चिपकू बदलू राम,

तेरी पर चलती रहे दुकान।

======

चाचा भतीजा की जोड़ी कैसी,

बुआ और बबुआ के जैसी,

लपट कपट कर झटक हो वैसी,

ताक पे रख कर सब सम्मान,

धरम करम इज्जत ईमान,

तेरी पर चलती रहे दुकान।

======

अदलू, बदलू ,झबलू राम,

मान गए भई पलटू राम।

======

अजय अमिताभ सुमन

सर्वाधिकार सुरक्षित

writing here…

Continue Reading
Further Recommendations

Aby : I choose this because I’m the type of person that over thinks a lot and it helped me by being my self no matter what not everyone is going to like you but just be you

Okundaho: I liked every single part of these poems as they each gave rise to a new world,a scene where a story unfolds. A thought etched into reality. An idea hidden within the folds, of a feeling that gives one familiarity

🅾🅼🅸🅽🆂🅺🆈: Maybe poetry is not about writing really. It's about interpretation of parts you thought was important. It's about finding yourself through exploring all the tiny details. I admire all the lost poets whose poems have not yet reached stardom because their words may represent the reality and falsit...

PumpkinCreams: I love how all of these poems are unique.It has a lot of beautiful imagery to them as well.The grammar is perfect. The stanzas could’ve been divided into neater stanzas but overall. Beautiful!

LukeMoore: A sensual smorgasbord of hot provocative groin stirring erotic poems, yet tempered by wistful musings of our humanity and how sex positions us with ourselves and towards and inside others. Don’t deny yourself the trip through 50-plus short lyrical poems. More than a handful will resonate person...

viewcoco2007: Awesome story in my opinion. Wonderful characters and storyline. You are a very talented writer. Although I would have liked longer story to see how it truly would have ended. But all in all I love this story. Thank you again for writing this story. 😊❤️😊

bellaswan0188: A decent story,editing required! ❤❤

Yolanda Tapia: Loving the book,poetry is my favorite 🫶🏼

Regina Delle Ombre: I cried and laughed. I loved the book so much after the first one! The poetry caught my feelings of guard. I cried so many tears, I loved it all!

More Recommendations

apioelizabeth33: I loved the book so much, and I would recommend it to myself..

About Us

Inkitt is the world’s first reader-powered publisher, providing a platform to discover hidden talents and turn them into globally successful authors. Write captivating stories, read enchanting novels, and we’ll publish the books our readers love most on our sister app, GALATEA and other formats.